उन्नाव रेप केसः विधायक कुलदीप सेंगर की पत्नी के पास आया ‘CBI ऑफीसर’ का कॉल- ‘1 करोड़ दो, मामला निबटा देंगे’

0
42
कुलदीप सेंगर-उन्नाव-रेप-kuldeep-sengar

लखनऊः हाल ही मे उन्नाव रेप कांड मे संदिग्ध चल रहे भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी संगीता सेंगर को ठगों ने अपने जाल में फंसाने का प्रयास किया. यहाँ आपको बता दें की संगीता सेंगर के मुताबिक उनके पास एक संदिग्ध फोन काल आया था, जिसमें उनसे यह कहा गया कि कुलदीप सेंगर के उपर चल रहा रेप केस का मामला एक करोड़ रुपये में सैटल किया जा सकता है. परंतु बातचीत से मामला संदिग्ध लगने पर संगीता सेंगर ने यह बात अपने परिवारजनों को बताई जिस पर परिवारजनों ने इस पूरे मामले की पुलिस से शिकायत की. यही नही, मामला विधायक कुलदीप सेंगर से जुड़ा होने के चलते शिकायत मिलते ही पुलिस भी तुरंत सक्रिय हो गई और मामले पर मुस्तैदी दिखाते हुए तुरंत पड़ताल कर आरोपियों को सर्विलांस की मदद से धर दबोचा.

सभी आरोपियों की लखनऊ से हुई गिरफ्तारी

मीडिया सूत्रो के मुताबिक सभी पकड़े गये आरोपियों की गिरफ्तारी लखनऊ के गोमती नगर के चिनहट इलाके से हुई है. सूत्रो के अनुसार पकड़े गए आरोपियों की पहचान देवरिया जिले के विजय रावत और गोसाईंगंज के दुर्गामऊ निवासी आलोक द्विवेदी के रूप में हुई है. यही नही आरोपियों को गिरफ्तार कर पुलिस आयेज की छानबीन में जुटी है.

पकड़े जाने पर दोनों ठगों ने बताया कि उन्होंने टीवी चैनल और अखबारों के माध्यम से आरोपी विधायक के पकड़े जाने और विधायक के परिवारजनों द्वारा उसे निर्दोष बताने की खबरें देखकर इस पूरी ठगी की साजिश रची, एसएसपी दीपक कुमार.

इस पूरे प्रकरण मे रविवार को पकड़े गए ठग आलोक ने मोबाइल फोन से कुलदीप सेंगर की पत्नी उन्नाव की जिला पंचायत अध्यक्ष संगीता सिंह को कॉल करके कहा कि ‘आपके पति की सीबीआई जांच कर रही है, मैं भाजपा नेता बोल रहा हूं और विधायक को सीबीआई के शिकंजे से बचा सकता हूं.’

CBI अफसर बन किया ठगी के लिए कॉल

कथित तौर पर किए गये कॉल के बारे में जब संगीता ने पकड़े गये ठगो से जानना चाहा कि इसके लिए उसे क्या करना होगा तो उसने कहा कि उनकी सीबीआई अधिकारियों से बात हो गई है और वो एक करोड़ रुपये का इंतजाम कर ले. जिसके बाद संगीता ने उन लोगो से कुछ वक्त मांगा.

यही नही, उसके बाद सोमवार को भी दूसरे ठग विजय रावत ने संगीता को दूसरे नंबर से फोन किया और खुद को बड़ा सीबीआई अफसर बता कर आरोपी विधायक का मामला सैटल करने की बात कही. उसकी बातचीत से विधायक की पत्नी को मामला कुछ संदिग्ध लगा जिसके चलते उसने परिवारजनों से बात की. फिर परिवारजनों ने पुलिस को जानकारी देते हुए इस पूरे मामले की शिकायत दर्ज कराई.

यह भी पढ़ें: बिहार के उच्च माध्यमिक स्कूलों में गेस्ट टीचर बनने का सुनहरा अवसर, निकली हैं 4 हजार से अधिक वैकेंसी