यूपी विधानसभा मे विस्फोटक पाए जाने पर योगी ने अधिकारियों को लिया आड़े हाथ, बोले- विधायको के लिए भी जांच प्रक्रिया ज़रूरी

0
17
यूपी विधानसभा-up-assembly

लखनऊ. हाल ही मे यूपी विधानसभा में पाए गये घातक PETN विस्फोटक पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को सदन में वक्तव्य दिया. साथ ही साथ योगी आदित्यनाथ ने इस पूरे घटनाक्रम की जांच एनआईए से कराने की माँग करते हुए यूपी विधानसभा की सुरक्षा व्यवस्था को और ज़्यादा मजबूत बनाए जाने की बात कही. विस्फोटक मामले के बाद मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि विधानसभा मे अनावश्यक लोगों की एंट्री पर पाबंदी लगाई जाए और यहां काम कर रहे हर शख्स का पुलिस वेरिफिकेशन ज़रूरी होना चाहिए.

 

हाल ही मे यूपी विधानसभा की सुरक्षा में एक बड़ी चूक सामने आई है. गौरतलब हो की विधानसभा के अंदर 12 जुलाई को बेहद ख़तरनाक पीईटीएन विस्फोटक बरामद हुआ था. यह विस्फोटक 12 जुलाई की सुबह यूपी विधानसभा में सपा विधायक की सीट के नीचे से पाया गया. इस बम की फोरेंसिक रिपोर्ट आने के बाद यूपी सरकार के महकमे में हड़कंप मच गया है. सूत्रो की माने तो अगर इस विस्फोटक के साथ डेटोनेटर पाया जाता तो विधानसभा में भीषण धमाका हो सकता था.

यूपी विधानसभा-up-assembly

सभी कर्मियों का हो पुलिस वेरिफिकेशन

इस मामले के बाद योगी आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि यूपी विधानसभा में काम कर रहे हर छोटे बड़े कर्मचारी का पूरी तरह से पुलिस वेरिफिकेशन होना बेहद जरूरी है. हमें पता होना चाहिए कि कौन और कितने लोग यहां कार्य कर रहे हैं. जब मैं पहली बार विधानसभा आया तभी देखा कि यहाँ इतने सदस्य नहीं थे जितने कैमरे लेकर लोग थे. क्या किसी को इतनी छूट दे दें कि वह इस तरह खिलवाड़ कर सके?

 

विधायको को मोबाइल और बैग बाहर रखने की हिदायत

सीएम योगी ने इस मामले का हवाला देते हुए कहा कि एक पुड़िया में 150 ग्राम PETN विस्फोटक मिला था. साथ मे उन्होने यह भी कहा की इस विधानसभा को उड़ाने के लिए मात्र 500 ग्राम ही पर्याप्त है. योगी जी ने कहा, ‘ये मामला मामूली नही है यह 22 करोड़ लोगों की भावनाओं से जुड़ा हुआ है. जिस सदन में बैठकर हम जनता की सुरक्षा पर बात करते हैं वहां हम खुद अपनी सुरक्षा पर चर्चा कर रहे हैं.’ इसके साथ ही सीएम ने सभी विधायकों से अपील की है कि कोई भी अपने बैग को सदन में लेकर न आए. मोबाइल अगर लाया भी जा रहा है तो साइलेंट मोड पर रखा जाए. सभी विधायक केवल एक नोटबुक लेकर आएं और जो कुछ कहना है उसी पर लिखकर लाएं.

 

सभी की जांच प्रक्रिया एयरपोर्ट की तरह हो

योगी आदित्यनाथ ने एयरपोर्ट जैसी सख़्त जांच प्रक्रिया का हवाला देते हुए कहा कि कुछ इसी प्रकार की सुरक्षा व्यवस्था यूपी विधानसभा के लिए भी की जानी चाहिए और किसी भी विधायक की तरफ से इसको लेकर किसी भी तरह की कोताही नहीं बर्दाश्त की जानी चाहिए. साथ ही सीएम ने यह भी कहा कि जिस किसी ने भी ये शरारत करी है, उसके खिलाफ सख़्त कार्रवाई की जानी चाहिए.




रिस्पॉन्स टीम गठित की जाए

फिलहाल विधानसभा में इस समय त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था है. साथ ही सचिवालय और विधान भवन की अलग है, यहाँ तक की अंदर मार्शल की व्यवस्था भी अलग से है. योगी ने इसपर ज़ोर देकर कहा कि समन्वय का घोर अभाव है. अगर कभी कोई बड़ा आतंकी हमला हो जाए तो रिस्पॉन्स टीम नहीं है. ऐसे मे ताज्जुब होता है की देश की सबसे बड़ी विधानसभा होने के बावजूद आज तक ऐसा नहीं किया गया. योगी आदित्यनाथ के स्पष्ट करा की बिना पास के किस की भी एंट्री बैन होनी चाहिए. केवल जिम्मेदार और जवाबदेह कर्मियों को ही तैनाती दी जाए.