J&K पुलिस ने सेना पर दर्ज की FIR, युवक को जीप से बांधने का है मामला, सरकार है सेना के साथ

0
149
भारतीय सेना

श्रीनगर। अभी हाल ही मे जम्मू कश्मीर का एक वीडियो सोशियल साइट्स पर काफ़ी वायरल हो रहा है जिसमें देखा जा सकता है की सेना की जीप में एक कश्मीरी युवक को बांधकर ढा़ल की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है. इस पूरे मामले में फिलहाल जम्मू कश्मीर पुलिस ने भारतीय सेना की उस यूनिट के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है. हालाकि भारत की सरकार सेना द्वारा उठाए गये इस क़दम के साथ ख़ड़ी है. सूत्रो से मिली खबरों के मुताबिक सरकार का ऐसा मानना है कि सेना के अफसर ने कश्मीर मे उप चुनाव के मुश्किल हालात में अपनी तथा चुनाव अधिकारियों की सुरक्षा के मद्देनजर यह फैसला लिया था. साथ ही साथ रक्षा मंत्री अरुण जेटली भी इस मुद्दे पर सेना कमांडरों से बात कर सकते हैं.

 

क्या है पूरा घटनाक्रम

आपको बता दें की श्रीनगर संसदीय क्षेत्र में इस महीने 9 अप्रैल को उपचुनाव हुए थे. वायरल हो रहा वीडियो उसी दिन का है जिसमे युवक को जीप के सामने बांधकर मानव ढ़ाल की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है. यह वीडियो तब रिकॉर्ड किया गया जब पोलिंग अधिकारियों का एक दल मतदान केंद्र से बच कर निकलने की कोशिश कर रहा था. मीडिया रिपोर्ट्स की मुताबिक अगर भारतीय सेना द्वारा उस व्यक्ति को ढाल की तरह गाड़ी मे नही बाँधा जाता तो लगभग 400 कश्मीरी लोगों की उग्र भीड़ पोलिंग अधिकारियों पर हमला कर देती. सेना के मुताबिक अगर उस वक्त भीड़ पर गोलीबारी की जाती तो भीड़ का गुस्सा फूट पड़ता. स्तिति को समझते हुए सेना ने एक प्रदर्शनकारी युवक को ढ़ाल की तरह इस्तेमाल किया और मौके से निकल गए.

इस वायरल हो रही वीडियो को जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला द्वारा शेयर किया था. साथ ही उमर ने ट्विटर पर लिखा, भारतीय सेना द्वारा इस युवा व्यक्ति को जीप के आगे सिर्फ़ इसलिए बांधा गया है ताकि जीप पर पत्थर न फेंके जाएं? यह काफी भयभीत करने वाला है.’ आपको बता दें की उमर राज्य की विधानसभा में बीरवाह सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि प्रदर्शनकारियों के सीआरपीएफ कर्मियों पर हमला करने का वीडियो वायरल होने के बाद देश में उत्पन्न हुए जन आक्रोश को वह समझते हैं लेकिन वह इस बात को लेकर दुखी हैं कि लोगों में युवक को जीप पर बांधने वाले वीडियो को लेकर उसी तरह का रोष नहीं है.

See Alsoदेखिए किस तरह कश्मीरी युवकों की बदसलूकी के बाद भी संयम बरतना पड़ता है हमारे जवानो को

क्या कहती है देश की जनता

इस पूरे घटनाक्रम पर वायरल हो रही वीडियो पर देश की जनता का भी सेना को सहयोग मिल रहा है, सूत्रो की माने तो लोगो ने सेना के पक्ष मे प्रतिक्रिया दी है, कुछ का कहना है की भले ही तरीका सही ना हो पर सेना की सुरक्षा के लिहाज से यह उचित तरीका है और काफ़ी पहले से यह हो जाना चाहिए था, अभी हाल ही मे CRPF जवानो के साथ कश्मीरी युवको द्वारा हुई बदसलूकी की वीडियो वायरल होने के बाद से देश की जनता काफ़ी गुस्से मे थी, लोगो का कहना है की भारतीय सेना मुश्किल की घड़ी मे हमेशा कश्मीर की जनता की मदद करती रही है और उसके बदले मे हमारे जवानो को पत्थर खाने पढ़ रहे हैं जो की ग़लत है| यहाँ आपको बता दें की कश्मीर मे सेना पर पत्थरबाज़ी की घटनाए काफ़ी बढ़ गयी हैं और ऐसे मे सेना को ठोस कदम उठाने पढ़ रहे हैं|

 

News Source: india.com | Updated: 17-04-2017