कैराना का कुख्यात बदमाश फुरकान पुलिस मुठभेड़ मे घायल, पलायन की बड़ी वजह था फुरकान

0
44
बदमाश फुरकान

कैराना | उत्तर प्रदेश के कैराना में आतंक का प्राय बन चुका मशहूर बदमाश फुरकान आज पुलिस एनकाउंटर में गंभीर रूप से घायल हो गया है। ज्ञात हो की कैराना से हिंदू पलायन की एक बड़ी वजह फुरकान को ही बताया जाता है। उत्तर प्रदेश राज्य के पुलिस महानिदेशक जावीद अहमद ने शुक्रवार को ही फुरकान के सर पर 50 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था।

 

कैराना पुलिस को शनिवार सुबह सूचना मिली कि कैराना का घोषित बदमाश फुरकान अपने कुछ साथियों के साथ व्यापारियों से रंगदारी वसूलने कैराना आ रहा है। पुलिस ने सूचना मिलते ही फौरन जाल बिछाया और पुलिस कप्तान अजय शर्मा की अगुवाई में पुलिस की कई टीम इलाके में पहले से ही तैनात हो गई। पुलिस के होने की खबर फुरकान को लग गयी थी और इससे पहले कि पुलिस फुरकान को पकड़ती उसने पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरु कर दी।

इस हमले पर जवाबी कार्रवाई करते हुए पुलिस ने भी फुरकान पर कई राउंड गोलियां चलाईं। इस एनकाउंटर में फुरकान को भी पांच गोलियां लगीं हैं, जबकि पुलिस के दो जवान भी घायल हो गए। जख्मी हालत में ही फुरकान को मेरठ रेफर किया गया है। घायल पुलिसकर्मियों का भी इलाज जारी है।

बदमाश फुरकान

(Image Source: aajtak.intoday.in)

सूत्रो के मुताबिक कुख्यात बदमाश फुरकान की कैराना तथा उसके आसपास के कई इलाक़ो में काफी दहशत थी यहाँ आपको बता दें की करीब दो साल पहले फुरकान ने दो कारोबारियों की रंगदारी की रकम लेने के बाद हत्या कर दी थी. फुरकान ही वह वजह थी जिसके चलते कई बड़े कारोबारियों ने कैराना से पलायन करना शुरू कर दिया था।

कुख्यात बदमाश फुरकान एके-47 जैसे घातक हथियारों का इस्तेमाल करने से भी गुरेज़ नही करता था। हाल मे कैराना में रंगदारी के धंधे में सिर्फ तीन बड़े गिरोह की दहशत है। इस सभी गिरोह मे से सबसे ज्यादा मुकदमे फुरकान और उसके गैंग के खिलाफ ही दर्ज हैं। उत्तर प्रदेश राज्य में बीजेपी की सरकार बनने के बाद कुछ दिन पहले ही फुरकान ने एक बार फिर एक कारोबारी से रंगदारी मांगी थी। साथ ही साथ कारोबारी को फुरकान की धमकी देने की ये पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। जिसके बाद से ही उत्तर प्रदेश पुलिस फुरकान की सरगर्मी से तलाश कर रही थी।

See Alsoअब मिलेगा 5 रुपए में भरपेट खाना योगी राज मे, शुरु होगी अन्नपूर्णा कैंटीन योजना

सूत्रो के अनुसार बताया जाता है की समाजवादी सरकार के कार्यकाल के दौरान फुरकान को इलाके के ही एक नेता की शह मिली हुई थी। और यहीं वजह है कि पुलिस अब तक फुरकान पर किसी भी तरह की कार्रवाई करने से बचती रही थी लेकिन भाजपा की योगी सरकार आने के बाद पुलिस हरकत में आ गयी।

 

News Source: thenationpost.in